सम्भोग से शुद्धि और फुद्दी दोनों का नाता है


hindi sex story, antarvasna

हाय प्यास से भरे दोस्तो | आज मैं आपको अपने विषय में कुछ सुनाने जा रहा हूँ | मैं जीजा हूँ कुछ लड़कियों का | मेरी एक सुन्दर सी पत्नी है जिससे मैं चोदता हूँ | इसके अलावा मैं अपनी कुछ सालियो को भी चोदता हूँ | मैं कुछ महीने के लिए अपने ससुराल गया हुआ था | कुछ महीने के लिए मुझे अपने ससुराल में रहना पड़ा | वहां पर मेरी कुछ सालियाँ भी रहती थी | मैं अपनी पत्नी को ले कर अपने ससुराल गया क्यूंकि एक कार्यक्रम था | ससुराल में पहुंचकर मैंने देखा कि मेरी सालियाँ मेरा स्वागत करने के लिए आई हुई हैं | मेरे ससुर का घर बड़ा सा था इसलिए उनके घर मेरी मेरी पत्नी की बहने आराम से रहती थी क्यूंकि उनकी शादी कही फिक्स नहीं हुई थी | जिस दिन मैं अपने ससुराल पहुंचा तो सब हमारे आदर सत्कार में लग गए | मैं उनका बनाया हुआ पकवान खा रहा था | जब मैं सालियों के साथ रहा करता था तब उन में से एक मुझे छेड़ा करती थी | जब मेरी सालियाँ मुझे छेड़ा करती थी तो मैं उनको अपने हाथो से पकड लेता था | मेरी सालियाँ देखने में सुन्दर थी इसलिए एक दिन मैंने अपनी एक साली को चोदने की मंशा से काम करने लगा | मैंने अपनी सबसे छोटी साली को चोदने की योजना बनाई थी | मैं जब घर पर अकेला था और मेरी सबसे छोटी साली घर पर अकेली थी तब मैंने अपने लंड की सहायता से उसके चूत को चोदा था | ऐसा मैंने तब किया जब मेरे ससुर के घर पर कोई नही था | मैं और मेरी सबसे छोटी साली थी केवल उस समय पर |

कुछ समय तक मैंने अपनी साली को चोदा फिर जब मैं उसे चोदकर थक गया तो मैंने उसे जाने के लिए कहा | मेरी सबसे छोटी साली मुझे छेड़ा करती थी और मैं उसके छेड़ने से थक गया था इसलिए मैंने अपनी सबसे छोटी साली को उस दिन चोद डाला | मैं एक व्यापारी हूँ जो की उसकी जीविका चलता हूँ | मैं एक कपडे का व्यापारी हूँ कपडे बेचने से मुझे फायदा होता है जिससे मैं अपनी जीविका आसानी से चला पाता हूँ | मैं जब अपने ससुराल गया हुआ था तब मैंने एक के बाद एक अपनी कई सालियो को चोदा | मेरे पास शानदार मौका था कि मैं अपनी कई सालियो को अपने ससुर के घर पर चोद सकूँ | कुछ महीनो के लिए मैं अपने ससुर के घर पर गया था और मुझे जो शानदार मौका मिला था उसका मैंने फायदा उठा लिया | जब मैंने अपनी सबसे छोटी साली को चोद लिया था तब मैंने अपनी अन्य सालियो को चोदने का फैसला किया | मैं अपनी सालियो को अपनी कार से ले कर घुमाने जाता था | मेरी सालियो को मेरी कार से घूमने का चस्का था | जब मैं अपनी कार घूमने के लिए बाहर निकाला करता था तब मेरी सालियाँ मेरे कार के अन्दर आकर बैठ जाती थी | मुझे तो बस अपनी सालियो को चोदना था इसलिए मैं कोई मौका नही गंवाता था | मेरी सालियो का नम्बर मेरे पास था इसलिए मैं उन्हें तंग किया करता था | मेरे पास एक नहीं सौ मौके हुआ करते थे जब मैं अपने ससुराल पहुँच जाता था क्योकि मेरे ससुर किसी भी कार्य की वजह से घर के बाहर रहते थे और मेरी सासु माँ भी उनकी सहेलियो के घर चली जाती थी | मेरी कुछ सालियाँ टाइट कपडे पहना करती थी जिनसे उनका सुन्दर बदन दिखता था | जब ऐसे कपडे पहनने वाली सालियाँ मेरे सामने रहती थी तब मैं अपने लंड को खड़ा होने से रोक नहीं पाता था |

Loading...

एक दिन मैं एक कमरे में था और बिस्तर पर बैठा हुआ था तभी मेरी एक सबसे बड़ी साली जो की मेरी पत्नी की दुसरे नंबर की बहन थी मेरे पास आकर बैठ गयी | कुछ समय तक वो मुझ से बात करती रही | फिर उसने मुझ से मस्ती करना शुरु कर दिया | कुछ देर के बाद वो मेरे कंधो को अपने हाथो से दबाने लगी | फिर वो मुझे छेड़ने के लिए मेरे बाल खीचने लगी और मेरे उपर तकिया फेककर मुझे छेड़ने लगी | वो कुछ समय तक मेरे उपर तकिया फेकती रही और मुझे छेडती रही और मैं भी मस्ती करता रहा | फिर जब मैं उसके छेड़ने से थक गया तो मैंने उसके हाथों को पकड़ा और अपने नज्द्देक खींच लिया | उस साली ने भी मेरा साथ दिया | उसने कोई विरोध प्रदर्शन नहीं दिखाया | फिर कुछ समय के बाद मैंने उसके होटो को चूमा | मैं डर भी रहा था कही कुछ हो ना जाये क्यूंकि वो चिल्ला भी सकती थी | पर उसने कहा जीजू आप कर सकते हो प्यास मुझे भी लगी है |

घर पर अकेले रहने का उस दिन मैंने फायदा उठा लिया था | जब मैं उसके होटो को चूमने लगा तब मुझे मालूम था की दरवाजा बन्द नही है इसलिए मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया और फिर मैं दरवाजा बन्द करने चला गया | फिर दरवाजा बन्द करके मैं कमरे पर लौटकर आ गया | फिर मैं अपनी साली के ऊपर लेट गया और वो पीठ के बल लेटी हुई थी इसलिए मैं उसके दूध को देख नहीं पा रहा था | कुछ समय तक मैंने उसके बदब को चूमा फिर उस पलता दिया और दूध दबाने लगा | उसके उपर कुछ देर तक लेटकर मैं उसके दूध दबाता रहा फिर मैं उसकी चूत को अपने हातो से रगड़ने लगा और उसके दूध को पीने लगा | वो गरम होने लगी और उसने कहा जीजू ये मेरा दूसरी बार है आप मुझे जमकर चोदना मैं बहुत प्यासी हूँ | मैंने उसकी बात का पालन किया | मैंने उसे बेतहाशा चूमोर उसके दूध को पिया और फिर मैं उसके पेट को चूमते हुए उसकी चूत तक पहुँच गया और अपने होंठों से उसकी चूत को सहलाने लगा | वो अआह्हह उम्म्मम्म्म्म ऊफ्फफ्फ्फ्फ़ ऊऊह्ह्ह्ह आआ आआह करते हुए मेरा साथ देने लगी | फिर मैंने उसकी चूत को जमके चाटा और उसका सारा रस निचोड़ लिया | पर उसकी प्यास अभी शांत नहीं हुई थी क्यूंकि उसको एक मोटा लंड चाहिए था जो मेरे पास था |

मैंने अपना हथियार लम्बा और मोटा स्की चूत में डाला और एक झटके में अन्दर तक घुसा दिया | वो चिल्लाई पर उसने कहा जीजू चोदो | मैं भी चोदने लगा और अपने लंड को उसकी चूत ए अन्दर बहार करने लगा | वो अआह्हह उम्म्मम्म्म्म ऊफ्फफ्फ्फ्फ़ ऊऊह्ह्ह्ह आआ आआह करते हुए आराम से चुदवा रही थी और मैं भी कुत्ते कि तरह उसको भका भक चोद रहा था |

कुछ समय के बाद मैंने उसके गांड में अपना लंड डाल दिया | फिर मैं उसकी गांड को अपने लंड से चोद रहा था | फिर मैंने उसको घोड़ी बनाया और उसने उसकी चूत मेरी तरफ कर दी और मैं उसकी चूत में अपना लंड डालकर चोदता रहा | जब मेरे लंड से वीर्य गिरने लगा तो मैंने अपने लंड को अपने हांथो से पकड़ा और फिर उसके बदन पर मेरे लंड का वीर्य गिरा दिया | फिर मैं अपने लंड से गिरे वीर्य को उसके बदन पर मलने लगा | कुछ समय तक चल रहा इस चुदाई ने मुझे सफलता दिलाई की मैं अपनी सबसे बड़ी साली के साथ सम्बन्द बना सकू | कुछ महीने तक ससुराल में रहने के बाद मैं फिर अपनी पत्नी को लेकर अपने शहर लौटकर आ गया | फिर मैं पहेले जैसे अपने कपडे के व्यापार पर लग गया | मेरा कपडे का व्यापार बढ़िया चल रहा था | इसलिए मैं एक धनि बन्दा बन चूका था | जब मैंने शादी नही की थी तब मैं अपनी पत्नी को पटाने के लिए उसके शहर जाया करता था | जब मेरे ससुर को मालूम चल गया की मैं उनकी लड़की को पटाने में लगा हुआ हूँ तो उन्होने मुझे एक दिन उनके घर पर बुलाया और मुझ से कहा की क्या तुम मेरी लड़की को पसन्द करते हो और उससे शादी करने के लिए तयार हो तो मैं तुम्हारी शादी करने के लिए तयार हूँ | मैंने भी उन्हे शादी करने के लिए हाँ कर दिया | मुझे मालूम था की मेरी पत्नी की कई बहने है और कुछ उसकी मामा और बुआ की लडकियां भी है | कुछ साल के बाद मेरी शादी मेरी पत्नी से हो गयी | शादी करने से पहेले मैंने अपनी पत्नी को पटाने के लिए एक छोटे लड़के की सहायता भी ली थी | छोडो दोस्तों पुरानी बातें याद आ जाती हैं |

जब मैं अपनी पत्नी के साथ कुछ महीने तक अपनी ससुराल लौटकर आ गया तो मेरे साथ एक साली भी आई हुई थी | जो साली मेरे साथ आई हुई थी वो मेरी पत्नी के मामा की लड़की थी | जब मेरे पास फुर्सत वाला समय होता था तब मैं उस लड़की को चोदने के नए तरीके बनाया करता था | आखिरकार मुझे एक दिन मौका मिल गया और मैं उसे अपने घर पर चोद पाया | चलिए जानते है की मैं उस मेरी पत्नी की बहन को कैसे चोद पाया | मेरी पत्नी उसकी सहेली के घर पर गयी हुई थी क्योकि उसकी सहेली ने उसे उसके घर बुलाया था | जब मेरी पत्नी उसकी सहेली के घर पर गयी हुई थी | जाते समय उसने मुझ से कहा था की उसे आने में देरी हो सकती है वो सुबह से निकली हुई थी और उस दिन शाम को घर पर लौटकर आई थी | जब मैं अपने साली के साथ घर पर अकेला था तब उसने मेरे लिए खाने के लिय कुछ दिया और फिर मैंने उसका दिया भोजन खाया |

भोजन खाने के बाद वो मुझ से हसी मजाक करने लगी | कुछ समय तक हसी मजाक चलता रहा और फिर मैंने उस लड़की के होटो को चूमने लगे | उस लड़की ने भी मेरे साथ दिया | मैं उसके होटो को चूमने के बाद अपने हातो से उसके दूद दबाया और फिर उसके दूद को पीने के लिए उसके कपडा उतार दिया | जब वो नंगी हो गयी तो मैं उसको नंगा करके चोदने लगा | कुछ समय तक उसकी चूत को अपने लंड से चोदने के बाद मेरे लंड से वीर्य बाहर निकल कर आ गया | फिर मैं उसकी गाड को अपने हातो से दबाने लगा | कुछ समय तक चल रहे इस चुदाई के दौरान मैंने अपने लंड उसकी गाड में डाला | मैं उसकी गाड को लम्बा समय तक चोदने के बाद उस लड़की से कहा की आज के लिए इतना ही | जब मेरे पास फुर्सत का समय रहेगा तब मैं तुम्हे चोद सकता हूँ | उस लड़की ने मुझ से कहा चलो जब दीदी घर पर नही रहेगी तब आप मुझे चोदना |

error:

Online porn video at mobile phone